मुख्यमंत्री ने जनपद हाथरस के विकास कार्यों एवं कानून-व्यवस्था की समीक्षा की

स्टेटमेन्ट टुडे /Statement Today / समाचार एजेंसी:
अब्दुल बासिद/ब्यूरो मुख्यालय: लखनऊ, उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने आज जनपद हाथरस के विकास कार्यों एवं कानून-व्यवस्था की समीक्षा करते हुए कहा कि शासन की लोक कल्याणकारी नीतियों के फलस्वरूप ही समाज में माहौल बदलता है। उन्होंने अधिकारियों को इस सन्देश को जन-जन तक पहुंचाने के निर्देश दिए। 
मुख्यमंत्री ने वाणिज्य अधिकारियों से व्यापारियों के जी0एस0टी0 मंे रजिस्ट्रेशन के बारे में जानकारी प्राप्त की। उन्होंने जनपद में केवल 1857 व्यापारियों के जी0एस0टी0 में रजिस्ट्रेशन होने पर नाराजगी जाहिर करते हुए प्रत्येक व्यापारी के रजिस्ट्रेशन करने के निर्देश दिए। उन्होंने अधिकारियों को निर्देश दिए कि जी0एस0टी0 में सभी छोटे-बडे़ व्यापारियों का पंजीकरण कराते हुए जी0एस0टी0 से होने वाले लाभ के बारे में जागरूक किया जाए। उन्होंने कहा कि ई-वे बिल के नाम पर व्यापारियों का उत्पीड़न न किया जाए।  
मुख्यमंत्री ने कहा कि आय, जाति एवं निवास प्रमाण-पत्रों का समय-सीमा के अन्दर ही निस्तारण किया जाए। उन्होंने बेसिक शिक्षा अधिकारी को सभी सरकारी विद्यालयों में ड्रेस, किताबें तथा जूते आदि का शत्-प्रतिशत वितरण कराने के निर्देश दिए। अपर मुख्य चिकित्सा अधिकारी ने जिला चिकित्सालय में 14 डाक्टरों के काफी समय से अनुपस्थित रहने की जानकारी दी। उन्होंने अनुपस्थित रहने वाले डाक्टरों को शीघ्र नोटिस देकर सेवा समाप्त करने के निर्देश दिए। 
मुख्यमंत्री ने जनपद में नवनियुक्त जिला पंचायतराज अधिकारी के ज्वाॅइन न करने के सम्बन्ध में जानकारी मिलने पर नाराजगी जाहिर करते हुये जिलाधिकारी से विस्तृत रिपोर्ट उपलब्ध कराने को कहा। उन्हांेने सभी विभागीय अधिकारियों से अपने-अपने विभाग की पूर्ण जानकारी रखने के भी निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि जनपद की सभी सड़कों का निर्माण निर्धारित समयावधि में पूरा किया जाए। उन्होंने जनपद के खारे पानी के गांव में पाइप पेयजल योजना से स्वच्छ पानी पहुंचाने के भी निर्देश दिए। 
मुख्यमंत्री ने जनपद के गांवों में विद्युतीकरण तथा सौभाग्य योजना के सम्बन्ध में जानकारी प्राप्त की। उन्होंने जनपद के 1282 गांवों में से 1060 गांवों में विद्युतीकरण के पश्चात विद्युत आपूर्ति होने पर विकास खण्ड स्तर पर जनप्रतिनिधियों से उद्घाटन कराने के निर्देश दिए। उन्होंने नगर निकायों के बारे में विस्तृत जानकारी ली। अपर जिलाधिकारी ने उन्हें अवगत कराया कि जनपद में कुल 09 नगर निकाय हैं, जिस पर उन्होंने निर्देश दिए कि एक ही पटल पर विगत कई वर्षों से तैनात कर्मिकों के पटल में शीघ्र परिवर्तन किया जाए।
मुख्यमंत्री ने एण्टी भू-माफिया के तहत वास्तविक भू-माफिया के विरुद्ध कार्यवाही करने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि चकबन्दी गरीबों के हित के लिए होती है, इसे शोषण का माध्यम न बनाया जाए। आई0जी0आर0एस0 प्रणाली के माध्यम से आॅनलाइन शिकायतों का निस्तारण गुणवत्तापूर्ण तथा फरियादी की सन्तुष्टि के आधार पर किया जाए।
मुख्यमंत्री ने सरकार की योजनाओं के बेहतर ढंग से क्रियान्वयन करने के निर्देश देते हुए कहा कि जनता को शासन की योजनाओं की जानकारी देने के लिए वाॅल पेंटिंग का प्रयोग किया जाए। डायल-100 तथा अन्य योजनाओं के क्रियान्वयन को चित्रों के माध्यम से प्रचारित-प्रसारित किया जाए। अपर मुख्य चिकित्साधिकारी नेे जन औषधि केन्द्र के लिए भूमि उपलब्ध कराने के बारे में जानकारी दी। उन्होंने जन औषधि केन्द्र को तत्काल प्रारम्भ कराने के निर्देश दिए। उन्होंने अपर चिकित्साधिकारी से दवाओं की उपलब्धता, 108 तथा 102 एम्बुलेंस के समय से पहुंचने आदि के सम्बन्ध में जानकारी प्राप्त की।
मुख्यमंत्री ने पंचायती राज विभाग को अगस्त में किए जा रहे स्वच्छ रैकिंग में अच्छा स्थान बनाने के निर्देश देते हुए कहा कि स्वच्छता रैकिंग में ग्राम स्तर को केन्द्र बिन्दु बनाया गया हैै। जनपद स्वच्छता रैंकिंग में पिछड़ने न पाए, इसके लिए स्कूलों, मन्दिरों तथा अन्य सार्वजनिक स्थानों पर स्वच्छता की व्यवस्था की जाए। उन्होंने डी0पी0आर0ओ0 को 14वें वित्त आयोग की धनराशि को गांव में बेहतर ढंग से लागू करने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि अधिकारीगण शासन की योजनाओं का बेहतर ढंग से क्रियान्वयन कराने के लिए स्थलीय निरीक्षण करें। 
मुख्यमंत्री ने मुख्य विकास अधिकारी से मनरेगा योजना के बेहतर क्रियान्वयन करने हेतु व्यापाक पैमाने पर तालाब बनवाने, पुराने कुँओं को पुनर्जीवित करने, निराश्रित पशुओं के लिए गौशाला बनाने तथा आंगनबाड़ी केन्द्रों के निर्माण के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि सार्वजनिक वितरण प्रणाली को पारदर्शी बनाने के लिए विकास खण्ड स्तर पर नोडल अधिकारी की नियुक्ति की जाए, जो गोदामों का आकस्मिक निरीक्षण करे। नोडल अधिकारी खाद्यान्न वितरण के अवसर पर उपस्थित रहे। उन्होंने खाद्यान्न चोरी हर हाल में रोकने के निर्देश दिए। उन्होंने सड़कों के किनारे लगने वाले ठेले, रेहडी को अन्यत्र शिफ्ट करने के लिए ग्रामीण हाट बनाने के निर्देश दिए। 
मुख्यमंत्री ने मुख्यमंत्री समग्र ग्राम योजना के तहत ‘एक गांव, एक तालाब’ योजना के अन्तर्गत जल संरक्षण करने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि जल संरक्षण हेतु जन सहभागिता को बढ़ावा दिया जाए। शासन के निर्देशों का प्राथमिकता के आधार पर पालन किया जाए। उन्होंने कहा कि 15 अगस्त स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर दो विशेष कार्यक्रम आयोजित किए जाएं। इन कार्यक्रमों के माध्यम से प्लास्टिक, पाॅलीथीन तथा प्लास्टिक उत्पादों पर पूर्णतः प्रतिबन्ध लगाया जाए। इसके अलावा, सभी विभागों द्वारा इस अवसर पर व्यापक पैमाने पर वृक्षारोपण किया जाए। 
मुख्यमंत्री ने पुलिस प्रशासन को बडे़ स्तर पर निरोधात्मक कार्यवाही करने के निर्देश देते हुए कहा कि अपराध पर काबू पाने के लिए प्रत्येक दिन फुट पेट्रोलिंग की जाए, जिससे अपराधियों के बीच भय व्याप्त हो। उन्होंने कहा कि पुलिस अधिकारियों को जनता के प्रति संवेदनशील रहने तथा बेहतर संवाद स्थापित करने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि सभी थानों को साप्ताहिक टास्क दिया जाए, जिससे बेहतर परिणाम प्राप्त होंगे। 
मुख्यमंत्री ने जिलाधिकारी तथा पुलिस अधीक्षक से उद्यमी तथा व्यापरियों के साथ बैठक करने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि प्रदेश में व्यापक स्तर पर परिवर्तन हुआ है, जो आम जनमानस को दिखना चाहिए। उन्होंने कहा कि कर चोरी के नाम पर व्यापारियों का उत्पीड़न न किया जाए। फसल ऋण मोचन योजना के तहत निर्धारित लक्ष्य को पूरा किया जाए तथा जिन किसानों के प्रकरण लम्बित हैं, उन्हें तत्काल निस्तारित किया जाए। पात्र लघु एवं सीमान्त किसानों का परीक्षण कर उन्हें लाभान्वित किया जाए।
इस अवसर पर सहकारिता राज्यमंत्री (स्वतंत्र प्रभार) उपेन्द्र तिवारी सहित अन्य जनप्रतिनिधिगण, शासन-प्रशासन के वरिष्ठ अधिकारी मौजूद थे।