इंसेफ्लाइटिस एवं दस्तक अभियान की तैयारियों के सम्बन्ध में गोरखपुर एवं बस्ती मण्डल की मुख्यमंत्री ने समीक्षा की

स्टेटमेन्ट टुडे /Statement Today / समाचार एजेंसी:
ब्यूरो मुख्यालय: लखनऊ, उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने अधिकारियों को इंसेफ्लाइटिस के लक्षण, कारक तथा उसके बचाव के सम्बन्ध में जनसामान्य को पूरी जानकारी प्रदान कर जागरूक किये जाने के निर्देश दिए हैं। उन्होंने कहा कि गन्दगी इंसेफ्लाइटिस बीमारी का प्रमुख कारक है, इसलिए स्वच्छता पर विशेष ध्यान दिया जाए। इसके प्रति जनजागरूकता लायी जाए। सड़कों सहित सार्वजनिक स्थानों पर साफ-सफाई रखने के निर्देश देते हुए उन्होंने कहा कि यदि नगर निगम, नगर पंचायत तथा गांव में सड़क किनारे कूड़ा-कचरा अथवा सफाई के अभाव में नाली जाम दिखाई दी, तो नगर आयुक्त, अधिशासी अधिकारी तथा डी0पी0आर0ओ0 की जिम्मेदारी तय की जाएगी। उन्होंने ई0टी0सी0 (इंसेफ्लाइटिस ट्रीटमेण्ट सेण्टर) निरन्तर क्रियाशील रखने और जे0ई0 के मरीजों का नजदीकी स्वास्थ्य केन्द्र पर समुचित उपचार किए जाने के भी निर्देश दिए हैं।
मुख्यमंत्री आज जनपद गोरखपुर के बी0आर0डी0 मेडिकल काॅलेज में इंसेफ्लाइटिस एवं दस्तक अभियान की तैयारियों के सम्बन्ध में गोरखपुर एवं बस्ती मण्डल की समीक्षा बैठक को सम्बोधित कर रहे थे। इस अवसर पर उन्होंने  इंसेफ्लाइटिस, डंेगू, चिकनगुनिया आदि विषाणु जनित बीमारियों के सम्बन्ध में स्वास्थ्य विभाग की तैयारियांे की जनपदवार विधिवत समीक्षा की। उन्होंने कहा कि इन बीमारियों से बचाव के सम्बन्ध में समस्त कार्यवाही समयबद्ध ढंग से पूरी कर ली जाए। उन्होंने यह निर्देश दिए कि इंसेफ्लाइटिस के मरीज को समय से चिकित्सा सुविधा उपलब्ध कराई जाए। मरीज के साथ सहायक के रूप मंे केवल एक व्यक्ति रहे। उन्होंने रैन बसेरों के सही ढंग से संचालन के भी निर्देश दिए।
मुख्यमंत्री ने कहा कि नगर निगम की सड़कें 30 जून, 2018 तक बनाने की समय-सीमा निर्धारित थी और सारे कार्य 06 माह पूर्व स्वीकृत हो गए थे, उन्होंने शत-प्रतिशत कार्य पूर्ण कराने के लिए कार्य में तेजी लाए जाने के निर्देश भी दिए। उन्होंने यह भी कहा कि इंसेफ्लाइटिस के प्रभावित क्षेत्रों का सर्वें कराकर रोग पर नियंत्रण की व्यवस्था की जाए और समय से मरीज को सुविधा देकर उसका इलाज कराया जाए। उन्होंने कहा कि निर्धारित समय के अन्तर्गत एम्बुलेंस सेवाएं उपलब्ध होनी चाहिए और अस्पताल में चिकित्सकों की उपस्थिति, दवाओं की उपलब्धता एवं साफ-सफाई की बेहतर व्यवस्था होनी चाहिए। मेडिकल काॅलेज में सफाई एवं सुरक्षा व्यवस्था चुस्त-दुरुस्त रखना आवश्यक है।
मुख्यमंत्री ने कहा कि ए0ई0एस0 जल जनित बीमारी है। इसलिए लोगों को स्वच्छ पेयजल अथवा इण्डिया मार्का-टू हैण्डपम्प का जल सेवन करने हेतु जागरूक किया जाए। उन्होंने यह भी कहा कि इंसेफ्लाइटिस प्रभावित परिवारों को चिन्हित कर उन्हें प्रधानमंत्री आवास योजना, स्वच्छ शौचालय आदि सुविधाओं से आच्छादित किया जाए। 
मुख्यमंत्री ने कहा कि जिलाधिकारी एवं मुख्य चिकित्साधिकारी सभी सी0एच0सी0 एवं पी0एच0सी0 का स्वयं भ्रमण करंे व ग्राम प्रधानों, आशाओं के साथ बैठक कर उन्हें इंसेफ्लाइटिस के बारे में बताएं। इसी तरह आयुक्त एवं अपर निदेशक स्वास्थ्य भी जनपदों की बराबर माॅनीटरिंग करते रहें। उन्होंने कहा कि चिकित्सकीय व्यवस्था में कहीं कोई कमी नहीं होनी चाहिए। बी0आर0डी0 मेडिकल काॅलेज में मैनपावर को बढ़ाया जाए। मुख्यमंत्री ने कहा कि बीमारी पर नियंत्रण पाने के लिए स्वच्छता पर ध्यान देना अति आवश्यक है। गांव, नगर निगम, नगर पंचायतें स्वच्छ और सुन्दर दिखने चाहिए। कही भी कूड़ा नहीं दिखना चाहिए।
मुख्यमंत्री ने कहा कि अगर किसी गांव सभा में इंसेफ्लाइटिस से किसी बच्चे की मृत्यु होती है, तो इसकी जिम्मेदारी तय की जाए कि किस स्तर पर लापरवाही बरती गयी है। उन्होंने यह भी कहा कि जिला अस्पताल पर इस बीमारी के मरीज के सम्बन्ध में एक नोडल अधिकारी नामित किया जाए, जो इसके विषय में रिपोर्टिंग करे। प्रत्येक सी0एच0सी0, पी0एच0सी0 तथा जिला अस्पताल में मरीज के लिए बेड आरक्षित रखे जाएं। 
इस अवसर पर चिकित्सा एवं स्वास्थ्य मंत्री सिद्धार्थनाथ सिंह, चिकित्सा शिक्षा मंत्री आशुतोष टंडन, अन्य जनप्रतिनिधिगण तथा शासन-प्रशासन के वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे।