साक्षी का विवादित बयान, कहा-बढ़ती जनसंख्या के लिए हिंदू नहीं बल्कि 4 बीवियों वाले जिम्मेदार

स्टेटमेंट टुडे न्यूज़/एजेंसी:
मेरठ : अपने विवादित बयानों को लेकर हमेशा सुर्खियों में रहने वाले बीजेपी के फायरब्रांड नेता साक्षी महाराज ने एक बार फिर विवादास्पद बयान दिया है। साक्षी महाराज ने कहा कि देश में बढ़ती जनसंख्या से हो रही परेशानियों के लिए हिन्दू जिम्मेदार नहीं बल्कि वो लोग हैं जिन्होंने चार बीवियां और 40 बच्चे पैदा करने की बात करते हैं। साक्षी महाराज ने ये बयान मेरठ के शनिधाम मंदिर में आयोजित सन्त समागम में हिस्सा लेने के दौरान कही। इस दौरान प्रशासन की ओर से कराई जा रही वीडियोग्राफी के दौरान जमकर हंगामा हुआ। वीडियोग्राफी करने आये पुलिसकर्मियों से नाराज सन्तों ने उन्हें खदेड़ दिया।
हिन्दू घटा तो देश बंटा
साक्षी महाराज ने देश की बढ़ रही जनसंख्या पर कहा कि वो आज फिर से कहना चाहते हैं कि हिन्दू घटा तो देश बंटा। उन्होंने कहा कि जनसंख्या को लेकर देश में एक सख्त और बढिय़ा कानून लाने की आवश्यकता है। चाहे बच्चा एक हो या चार हों सबके लिए समान कानून बनाने का समय आ गया है। उन्होंने कहा कि अगर जनसंख्या बढ़ती जा रही है तो इसका जिम्मेदार हिन्दू बिल्कुल नहीं हैं बल्कि जिम्मेदार वो लोग हैं जिन्होंने चार बीवियां और 40 बच्चे पैदा किये हैं। उन्होंने कहा कि अब चार बीवी और 40 बच्चे का समय नहीं रहा है, अब ये नहीं चलेगा, माताएं कोई मशीन नहीं हैं।
तीन तलाक समाप्त करने का समय
तीन तलाक पर बोलते हुए उन्होंने कहा कि अब इसे समाप्त करने का समय आ चुका है। प्रधानमंत्री मोदी इस बात को लेकर आगे बढ़ गए हैं और ये बहस छिड़ गई है कि तीन तलाक नहीं होने चाहिए। औरत मशीन नहीं है इसके लिए कानून बनना चाहिए।
गौहत्या और कत्ल खाने होंगे बन्द
गौहत्या पर बोलते हुए साक्षी महाराज ने कहा कि गौहत्या और कत्ल खाने भी बन्द होंगे। अगर गौहत्या और कत्ल खाने देश में होंगे तो मोदी जी का श्वेत क्रांति का सपना कैसे पूरा होगा।
सपा में घमासान कुर्सी की लड़ाई
मीडिया से मुखातिब होते हुए महाराज ने कहा कि सपा में जो पारिवारिक कलह चल रही है वो सिर्फ कुर्सी की लड़ाई है। उन्होंने कहा कि जो लोग परिवार और पार्टी को नहीं संभाल पा रहे हैं वो प्रदेश क्या संभालेंगे।
राम मंदिर बीजेपी का मुद्दा नहीं
वहीं राम मंदिर मुद्दे के सवाल पर उन्होंने कहा कि मंदिर बीजेपी का कभी भी मुद्दा नहीं रहा है बल्कि ये तो सन्त समाज और साधु महात्माओं का मुद्दा है। बीजेपी राम मंदिर के मुद्दे पर वोट मांगने वाली नहीं है।