मुरादाबाद में दो दिवसीय ओ0डी0ओ0पी0 समिट का भव्य शुभारम्भ

Statement Today

अब्दुल बासिद/ब्यूरो मुख्यालय: मुरादाबाद, उत्तर प्रदेश शासन की महत्वाकांक्षी “एक जनपद एक उत्पाद” योजनान्र्तगत धातु शिल्प विषय पर ओडीओपी समिट का भव्य शुभारम्भ सर्किट हाउस के पीछे (पार्क) मझोला योजना दिल्ली रोड मुरादाबाद में मुख्य अतिथि प्रदेष के मंत्री सूक्ष्म लघु एवं मध्यम उद्यम तथा निर्यात प्रोत्साहन, खादी एवं ग्रामोद्योग, रेशम उद्योग, हथकरघा एवं वस्त्रोद्योग विभाग सत्यदेव पचैरी तथा राज्यमंत्री पंचायती राज (स्वतन्त्र प्रभार) एवं लोक निर्माण विभाग उ0प्र0 शासन भूपेन्द्र सिंह द्वारा किया गया। उल्लेखनीय है कि प्रदेश के जनपदों में सर्वप्रथम मुरादाबाद में ओडीओपी योजनान्र्तगत दो दिवसीय समिट का आयोजन किया जा रहा है, जिसमें धातु शिल्प से संबंधित प्रदेश के आठ प्रतिभागी जनपद यथा मुरादाबाद, अलीगढ़, एटा, कानपुर देहात, गाजियाबाद, मथुरा, शामली एवं संतकबीर नगर द्वारा अपने-अपने ओडीओपी उत्पादो का प्रदर्शन, मार्केटिंग तथा ब्रान्डिंग की जा रही है। 

समिट के शुभारम्भ पर मुख्य अतिथि के रुप में प्रदेष के सूक्ष्म लघु मध्यम उद्यम तथा निर्यात प्रोत्साहन मंत्री सत्यदेव पचैरी ने अपने सम्बोधन में कहा कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के नेतृत्व वाली वर्तमान प्रदेष सरकार “सबका साथ सबका विकास” के सिद्धान्त पर कार्यशील है तथा लघु उद्यमियो, दस्तकारों, कारीगरों एवं हस्तशिल्पियों के सर्वांगीण विकास एवं उत्थान हेतु कृत संकल्पित है। उन्होंने कहा कि उत्तर प्रदेष ओडीओपी योजना प्रारम्भ करने वाला भारत का प्रथम राज्य है तथा मुरादाबाद में धातु शिल्प विषय पर आयोजित दो दिवसीय ओ0डी0ओ0पी0 समिट के उद्घाटन दिवस पर ओडीओपी उत्पाद के 7377 लाभार्थियों को 1230 करोड़ के ऋण चैक वितरण कार्यक्रम अभूतपूर्व एवं ऐतिहासिक है। निर्यात प्रोत्साहन मंत्री ने कहा कि जब तक अन्तिम पायदान पर बैठे व्यक्ति का विकास नही होगा तब तक पण्डित दीनदयाल उपाध्याय का अन्त्योदय सफल नही होगा और इसी उद्देश्य से प्रदेश सरकार बैंको के माध्यम से दस्तकारों और कारीगरों को ऋण उपलब्ध कराने हेतु प्रयत्नशील है।

निर्यात प्रोत्साहन मंत्री ने कहा कि प्रदेश सरकार द्वारा 24 जनवरी 2018 को यू0पी0 दिवस के अवसर पर “एक जनपद एक उत्पाद” जैसी महत्वकांक्षी योजना का शुभारम्भ किया गया है जिसके माध्यम से प्रदेष सरकार समस्त जनपदों के परम्परागत उत्पादों के हस्तशिल्पियों को विभिन्न सुविधायें देकर उनके उत्पादन की गुणवत्ता को बढ़ाने हेतु उनको तकनीकी एवं आर्थिक सहायता प्रदान कर रही है। साथ ही हस्तशिल्पियों, उद्यमियों एवं निर्यातकों की सुविधा को देखते हुए टैक्नीकल अपग्रेडेशन के माध्यम से परम्परागत उद्योगों का विकास तथा उत्पादों की मार्केटिंग एवं ब्रान्डिंग पर भी विषेष बल दिया जा रहा है। निर्यात प्रोत्साहन मंत्री ने कहा कि प्रदेष में 40 हजार सूक्ष्म लघु एवं मध्यम इकाईयां हैं जिनमें 1 करोड 40 लाख दस्तकार एवं हस्तशिल्पी कार्यरत हैं तथा सरकार ने इन सभी हस्तशिल्पियों को गुमनामी के अंधेरे से निकालने हेतु 250 करोड रुपये के बजट का प्राविधान किया है। 

पंचायती राज राज्यमंत्री भूपेन्द्र सिंह ने ओडीओपी समिट के शुभारम्भ सत्र की अध्यक्षता करते हुए कहा कि मुरादाबाद के मेटल हैण्डीक्राफ्ट की विष्व में अपनी विशेष पहचान है। उन्होंने कहा कि मुरादाबाद ब्रास सिटी के रुप में विश्वविख्यात है जहां पर पीतल का कार्य परम्परागत रुप से  मुगलकाल से चला आ रहा है तथा जनपद में लगभग 1500 छोटी -बडी निर्यातक इकाइयों में प्रत्यक्ष व अप्रत्यक्ष रुप से 2.5 से लगभग 3 लाख लोग लगे हुए है तथा मुरादाबाद से लगभग 7 से 8 हजार करोड़ का निर्यात प्रतिवर्ष अमेरिका, यूरोप एवं अरब देषों में किया जाता है। 

निर्यात प्रोत्साहन मंत्री तथा पंचायती राज राज्यमंत्री ने समिट के उद्घाटन सत्र पर आयोजित वृहद ऋण वितरण षिविर में ओ0डी0ओ0पी0 उत्पाद के 7377 लाभार्थियों को 1230 करोड के ऋण चैकों का वितरण किया तथा 56 चयनित हस्तशिल्पियों को आधूनिक टूलकिट वितरित की गयी। इस अवसर पर मंत्रीगण द्वारा मुरादाबाद के चयनित ओडीओपी उत्पाद मेटल हैण्डीक्राफ्ट के 1461 लाभार्थियों को 423 करोड रुपये, एटा के चयनित उत्पाद घूंघरु घंटी के 2280 लाभार्थियों को 100.29 करोड रुपये, मथुरा के चयनित उत्पाद सैनेटरी फिटिंग के 1407 लाभार्थियों को 172.60 करोड, अलीगढ़ के ताला व हार्डवेयर उत्पाद के 983 लाभार्थियों को 209 करोड, कानपुर देहात के बर्तन उद्योग के 1066 लाभार्थियों को 4.07 करोड, ष्षामली के रिम व एक्सेल के 8 लाभार्थियों को 3.86 करोड रुपये, संत कबीरनगर के पीतल बर्तन के 7  लाभार्थियों कोे 0.397 करोड रुपये तथा गाजियाबाद के इंजीनियरिंग उत्पाद के 165 लाभार्थियों को 317 करोड रुपये के ऋण चैको का वितरण किया गया। निर्यात प्रोत्साहन मंत्री ने इन सभी ओडीओपी लाभार्थियों का आह्वान किया कि वे लोन का अधिकतम सदुपयोग सुनिश्चित कर अपनी आर्थिक स्थिति को सुदृढ़ करके बैंकों को समय से लोन की वापसी सुनिश्चित करें। 

आयुक्त एवं निदेशक उद्योग के0 रविन्द्र नायक ने अपने संबोधन में कहा कि उत्तर प्रदेश अपने कुषल एवं निपुण कारीगरों एवं दस्तकारों के उत्पादों की गुणवत्ता की विशेषता हेतु जाना जाता है तथा प्रदेश के कमिश्नरी जनपदों में सर्वप्रथम मुरादाबाद में आयोजित इस दो दिवसीय ओडीओपी समिट का मुख्य उद्देष्य पारम्परिक शिल्प का संरक्षण एवं रोजगार सृजन कर शिक्षित बेरोजगारों को स्वावलम्बी बनाना है।  उन्होंने कहा कि समिट में सभी प्रतिभागी 8 जनपदों द्वारा “एक जनपद एक उत्पाद” के अन्र्तगत चयनित उत्पादो की प्रदर्षनी लगायी गयी है तथा बायर सैलर मीट का भी आयोजन किया गया है। इस समिट में जहां एक ओर मुरादाबाद धातु हस्तषिल्प  की चमक बिखेर रहा है वहीं अलीगढ का ताला, कानपुर देहात का बर्तन उद्योग, एटा को घुंघरु घंटी, गाजियाबाद का इंजीनियरिंग उत्पाद, मथुरा का सैनेटरी फिटिंग , शामली का रिम एवं धुरा तथा संत कबीर नगर का पीतल के बर्तन उद्योग भी अपनी उपस्थित इस समिट में दर्ज करा रहे हैं। साथ ही इस समिट मंे कई तकनीकी सत्रों का आयोजन किया जा रहा है जिसमें एन0एस0ई0 (नेषनल स्टाक एक्सचेन्ज) के विशेषज्ञ तथा शेयर बाजार एवं आईपीओ के विषय में आवश्यक जानकारी प्रदान की जाएगी। इसके अतिरिक्त जैम पोर्टल से संबंधित तकनीकी बातों से भी विशेषज्ञों द्वारा लोगों को अवगत कराया जायेगा। उन्होंने कहा कि बायर सैलर मीट में कई वाइंग एजेन्सी एवं वाइंग हाउस , निर्यातकों एवं हस्तशिल्पियों द्वारा भाग लिया जा रहा है। उद्योग निदेशक नायक ने बताया कि समिट के द्वितीय दिवस 16 दिसम्बर को बैंकिंग एक्सपर्ट द्वारा निर्यातकों को निर्यात एवं आयात के सम्बन्ध मंे जानकारी प्रदान की जाएगी तथा भारत सरकार के एमएसएमई विभाग द्वारा चलाई जाने वाली विभिन्न योजनाओं के विषय में लोगों को जानकारी प्रदान की जाएगी। धातु हस्तशिल्प के क्षेत्र में धातु गलाई की भट्टियों में आने वाली समस्याओं से निजात दिलाने हेतु पीपीडीसी आगरा द्वारा उन्नत भट्टियों के विषय में एक तकनीकी सत्र आयोजित किया जायेगा। तथा धातु हस्तशिल्प सेवा केन्द्र मुरादाबाद द्वारा उद्यमियों एवं हस्तशिल्पियों को दी जाने वाली विभिन्न सुविधाओं की जानकारी केन्द्र के विशेषज्ञों द्वारा टैक्नीकल सत्र में दी जाएगी। इससे पूर्व ओडीओपी समिट का शुभारम्भ निर्यात प्रोत्साहन मंत्री तथा पंचायतीराज राज्यमंत्री द्वारा संयुक्त रुप से दीप प्रज्जवलित कर किया गया तथा कार्यक्रम के समापन पर मण्डलायुक्त अनिल राज कुमार द्वारा धन्यवाद ज्ञापन किया गया। उद्घाटन सत्र में वसीम अब्बास द्वारा ओडीओपी योजना पर निर्मित फिल्म का प्रदर्शन किया गया तथा हस्तशिल्प दिलशाद हुसैन द्वारा मुख्यमंत्री हेतु एक प्रतीक चिन्ह निर्यात प्रोत्साहन मंत्री को सौपा गया।

समिट में विधायक शहर रितेष कुमार गुप्ता, एमएलसी डा0 जयपाल सिंह व्यस्त, महापौर विनोद अग्रवाल , बाल अधिकार आयोग अध्यक्ष डा0 विशेष गुप्ता, अनुसूचित जाति/जनजाति आयोग सदस्य साध्वी गीता प्रधान, खादी बोर्ड उपाध्यक्ष रामगोपाल, जिलाध्यक्ष  हरिओम शर्मा, नगर अध्यक्ष महेन्द्र गुप्ता, सहित नोडल अधिकारी जनपद मुरादाबाद भुवनेश कुमार, मण्डलायुक्त अनिल राज कुमार, जिलाधिकारी राकेष कुमार सिंह, उद्योग निदेषक के0 रविन्द्र नायक, सीडीओ मृदुल चैधरी, संयुक्त निदेषक उद्योग देषराज गौतम एलडीएम सतीष गुप्ता, के अतिरिक्त जनप्रतिनिधि उद्यमी, बैंकर्स, औद्योगिक संगठनों के पदाधिकारी  तथा हस्तशिल्पी आदि उपस्थित थे। 

3 comments

  • Lori

    October 9, 2021 at 11:32 pm

    Its like you read my mind! You appear to know so much about this, like you wrote
    the book in it or something. I think that you
    can do with a few pics to drive the message home a bit, but instead of that, this is excellent blog.
    A great read. I’ll definitely be back.

    Reply

  • website

    October 22, 2021 at 5:18 pm

    Hello I am so grateful I found your web site, I really
    found you by error, while I was looking on Digg for somrthing else, Anyways I am here nnow andd would just like to say thanks for a marvelous post aand a all round interesting blog (I also love the theme/design),
    I don’t have time to read it all at thee minute but I have book-marked it aand also added your RSS feeds, so when I have
    time I will bee back to read a great deal more, Please do kee up the superb job.

    website

    Reply

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *