जयपुर के रामलीला मैदान में बरसे केजरीवाल, बोले- ‘देश में नोटबंदी मोदी का षड़यंत्र’

स्टेटमेंट टुडे न्यूज़ / एजेंसी:

जयपुर। आम आदमी पार्टी के राष्ट्रीय संयोजक एवं दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने आरोप लगाया कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने देश में नोटबंदी षडय़ंत्र के तहत लागू की है और बैंको में जमा धनराशि का इस्तेमाल अमीर लोगों के आठ लाख करोड़ रूपये के कर्ज माफ करने में किया जाएगा तथा इन लोगों से घूस ली जाएगी।

केजरीवाल आज यहां आप पार्टी की ओर से आयोजित जनसभा को संबोधित कर रहे थें। उन्होंने कहा कि मोदी नोटबंदी लागू कर देश में भ्रष्टाचार, आतंकवाद एवं कालाधन समाप्त करता तो मैं सबसे से आगे उनके नाम का जयकारा लगाता लेकिन इसके पीछा मकसद अलग है।

उन्होंने कहा कि देश से आतंकवाद एवं भ्रष्टाचार मिटाने के लिए गत आठ नवम्बर को जब 500 एवं 1000 रूपये के नोटबंदी का ऐलान किया तो लगा था कि इन समस्याओं से निजात मिलेगी लेकिन कुछ समय बाद दो हजार रूपये का नया नोट लाने की घोषणा कर कालेधन वालों को सुविधा देने जैसा लगा।

उन्होंने कहा कि रिश्वत लेने वाले और रिश्वत देने वाले वही लोग हैं जो पहले एक हजार रूपये के नोट ले रहे थें अब वे दो हजार के नोट ले रहे है।
उन्होंने जनता से सवाल किया कि पिछले डेढ माह में हुई नोटबंदी से भ्रष्टाचार, आतंकवाद एवं कालाधन क्या समाप्त हुआ तथा अब भी कालाधन पकड़ा जा रहा है एवं आतंकवादी एवं भ्रष्टाचार की घटनाएं हो रही है।

उन्होंने कहा कि जनता बैंकों में अपने रूपये लेने के लिए लाईन में खड़ी थी ओर बैंकों के पिछले दरवाजों से कालाधन बदला जा रहा था। उन्होंने संदेह व्यक्त किया कि मोदी की घोषणा के अनुसार 50 दिन बाद एक जनवरी से बैंकों से जनता को पैसे मिलना मुश्किल लगता हैं।

केजरीवाल ने कहा कि देश के बड़े पूंजीपतियों पर बैंकों का करीब आठ लाख रूपये का कर्ज बकाया था जिसमें से एक लाख 14 हजार करोड़ रूपये का लोन मोदी सरकार ने माफ कर दिए और अब शेष कर्ज भी नोटबंदी लागू कर माफ करने की तैयारी की जा रही है।

उन्होंने कहा कि विजय माल्या देश के 9000 करोड़ लेकर विदेश भाग गया और इस सरकार को मालूम ही नहीं हुआ। उन्होंने कहा कि जनता नोट बदलने के लिए बैंको में लाईन लगा कर खड़ी थी और मोदी माल्या के 1200 करोड़ रूपये का कर्ज माफ कर रहे थे।

उन्होंने बताया कि केन्द्र सरकार वास्तव में देश में कालाधन समाप्त कराना चाहाती हैं तो उसके पास स्विस बैंको में 648 खाताधारकों की सूची है जिनमें कालाधन जमा है और उन्हें अभी तक गिरफ्तार नहीं किया गया क्योंकि इस सूची में उन्हीं अमीरों के नाम है जो प्रधानमंत्री के रसूखदार है।

उन्होंने आरोप लगाया कि नोटबंदी से पहले भारतीय जनता पार्टी ने देशभर में जमीन खरीद कर अपने धन को ठिकाने लगाया और फिर अपने रसूखदारों को सूचना देकर उनका कालाधन सफेद कराया। इसके बाद नोटबंदी का ऐलान किया।

उन्होंने कहा कि राजनेता एवं राजनैतिक पार्टी ही सबसे भ्रष्ट हैं और इनको सूचना के अधिकार दायरे में लाने एवं उनके खातों की जांच की छूट प्रदान की है। उन्होंने मांग की कि हर राजनैतिक दल एवं राजनेता के खातों की जांच होनी ही चाहिए।

केजरीवाल ने आरोप लगाया कि 15 अक्टूबर 2013 को बिड़ला परिवार तथा 22 नवम्बर 2014 को सहारा परिवार पर आयकर विभाग ने छापे मारे थे तो वहां से मिले दस्तावेजों में बिड़ला से 25 करोड़ रूपये गुजरात मुख्यमंत्री को देने का हवाला मिला और इसमें से 12 करोड़ रूपये का भुगतान होना पाया गया।

इसी प्रकार सहारा के दस्तावेजों से मोदी को सात बार में 40 करोड़ 10 लाख रूपये देने का रिकार्ड मिला हैं। इस संबंध में अभी तक कोई जांच नहीं हुई जबकि केजरीवाल के यहां छापों की जांच की जा रही हैं। उन्होंने कहा कि मैं ऐसे छापों से डरने वाला नहीं हूं तथा मेरा लेन देन साफ हैं।

उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री देश को केशलेस बनाने में लगे हुए हैं लेकिन भाजपा को कैशलेस नहीं बना रहे हैं। उन्होंने कहा कि भाजपा को मिलने वाला चंदा 70 प्रतिशत नगद होता हैं तथा कांग्रेस का 80 प्रतिशत नगदी में होता हैं जबकि आप का मात्र आठ प्रतिशत चंदा ही नगद होता हैं।

केजरीवाल ने कहा कि मैं यहां वोट मांगने एवं राजनीति करने नहीं आया हूं बल्कि पिछले एक माह से देश में अनेक स्थानों पर जाकर नोटबंदी के कारण हुए बड़े घोटाले को उजगार करने तथा इसके प्रति लोगों को जागरूक करने का काम कर रहा हूं और लोगों से देश बचाने की गुहार कर रहा हूं। उन्होंने कहा कि कुछ समय बाद पंजाब एवं गोवा में चुनाव होने वाले है तथा वहां हमारी पार्टी चुनाव भी लड़ रही हैं लेकिन मुझे वोट की राजनीति नहीं करनी हैं।

उन्होंने कहा कि नोटबंदी के कारण लोग पहले खुश थे वे भी अब भ्रष्ट लोगों द्वारा बैंको से अपने नोट बदलने पर बैंकों की लाईनों में खड़े अपने आपको ठगा सा महसूस कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि नोटबंदी के कारण देश का व्यापार, रोजगार एवं उद्योग धंधे पूर्ण रूप से ठप हो गए हैं।

उन्होंने कहा कि मोदी सरकार में गरीब की बेटी की शादी ढाई लाख रुपये में होती हैं जबकि पूंजीपति की लड़की की शादी 500 करोड़ रूपये में हो रही है। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री विदेशों में घूमते है तथा नई नई पोशाक पहनते है तथा जनता से त्याग करने के लिए कह रहे है। ऐसा अधिक दिन तक चलने वाला नहीं हैं। सभा को दिल्ली के पर्यटन मंत्री कपिल मिश्रा एवं विधायक अल्का लाम्बा ने भी संबोधित किया।