05 दिवसीय उद्यमिता विकास प्रशिक्षण कार्यक्रम की शुरुआत !

Statement Today /स्टेटमेन्ट टुडे समाचार एजेंसी:
अब्दुल बासिद/ब्यूरो मुख्यालय: लखनऊ, उद्यमिता विकास संस्थान, उ.प्र., लखनऊ द्वारा उद्यमिता विकास विषय पर पांच दिवसीय फैकल्टी डेवलमेन्ट कार्यक्रम दिनांक 27 से 31 अगस्त, 2018 तक राजकीय पालीटेक्निक के शिक्षकों हेतु आयोजित किया जा रहा है। इस कार्यक्रम के मुख्य प्रतिभागी राजकीय पाॅलीटेक्निक के शिक्षक हैं, जो प्रदेश के विभिन्न मण्डलों से आए हुए हैं। इस प्रशिक्षण कार्यक्रम का उद्देश्य प्रतिभागियों को उद्यमिता विकास से अवगत कराना है, साथ ही छात्रों में उद्यमीय भावना को विकसित करने हेतु उन्हें सक्षम बनाना है। यह कार्यक्रम उद्यमिता विकास संस्थान,उ.प्र. के ’’भारत भविष्य योजना’’ एवं उ.प्र. सरकार की विजन 2030 के लक्ष्य 04 के अन्र्तगत क्वालिटी एजूकेशन के लिए किया जा रहा है। 
कार्यक्रम का उद्घाटन आज दिनांक 27 अगस्त, 2018 को उद्यमिता विकास संस्थान, उ.प्र., लखनऊ के प्रांगण में रवीश गुप्ता (आई.ए.एस.), निदेशक उद्यमिता विकास संस्थान एवं विशेष सचिव, सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्यम एवं निर्यात प्रोत्साहन विभाग, उ.प्र. शासन द्वारा किया गया। निदेशक ने छात्रों को उद्यमिता से जोड़ने के लिए किये जा रहे प्रयासों पर चर्चा की एवं इस आवश्यकता पर बल दिया। उन्होंने कहा कि छात्रों में उद्यमिता की भावना जागृत की जाये जिससे कि वे नौकरी करने के उपरान्त भी अपना उद्यम प्रारम्भ करने की दिशा में सोच सकें और समय के साथ अनुभव प्राप्त करते हुए उद्यम की दिशा में आगे बढ़ सकें। शोध, विकास एवं प्रशिक्षण संस्थान, उ.प्र. एवं उद्यमिता विकास संस्थान की टीमों को बधाई देते हुए इस प्रयास को काफी सराहा। उन्होंने प्रतिभागियों का उत्साहवर्धन करते हुए उनसे उनकी सम्पूर्ण भागीदारी की मांग की।
इस अवसर पर आर.सी. राजपूत, निदेशक, तकनीकी शिक्षा,उ.प्र. ने विजन 2030 के बारे में बताते हुए गुणवत्तापरक शिक्षा पर जोर दिया। साथ ही उन्होंने तकनीकी शिक्षा में लैंगिक असमानता को दूर करने हेतु किए जा रहे सरकारी प्रयासों का उल्लेख किया। 
मनोज कुमार, निदेशक, शोध विकास एवं प्रशिक्षण संस्थान,उ.प्र. ने विन 2030 के बारे में विस्तार से बताया। उन्होंने छात्रों हेतु तकनीकी शिक्षा के साथ ही उद्यमिता विकास पर जोर दिया जिससे छात्र उद्यम स्थापना कर नये रोजगारों का सृजन कर सकें एवं बेरोजगारी के दुश्चक्र में न फंसे। 
कार्यक्रम के प्रारम्भ में संस्थान की विभा त्रिपाठी, एसो.संकाय सदस्य ने सभी प्रतिभागियों का स्वागत किया तथा कार्यक्रम के उद्देश्यों पर प्रकाश डाला। डा. के.एस. गुप्ता द्वारा निदेशक, नाॅलिज सेन्टर फाॅर क्वालिटी माइण्ड, बंगलौर द्वारा सभी अतिथियों का धन्यवाद व्यक्त किया गया।