रेलवे के बिना विकास की कल्पना करना संभव नहीं -ब्रजेश पाठक

Statement Today4 years ago1124371 min
Statement Today
अब्दुल बासिद/ब्यूरो मुख्यालय: लखनऊ, आवागमन और भारतीय अर्थव्यवस्था को सुलभ बनाने में रेलवे का महत्वपूर्ण योगदान है। आर्थिक, सामाजिक, ऐतिहासिक, धार्मिक, सांस्कृतिक एवं परिवहन आदि की गतिविधियों के सुचारू संचालन में रेलवे ने नई गति देने के साथ ही नये अयाम स्थापित किये हैं। भारत की लाइफ लाइन कही जाने वाली रेल के बिना आज विकास की कल्पना करना भी संभव नहीं है।
यह विचार प्रदेश के विधि एवं न्याय मंत्री ब्रजेश पाठक ने आज चारबाग स्थित रेलवे स्टेडियम में एनआरएमयू द्वारा आयोजित 70वें तीन दिवसीय युवा सम्मेलन का शुभारम्भ करते हुए व्यक्त किये। उन्होंने कहा कि रेलवे की गतिविधियों में आज काफी सुधार हुआ है। जनता रेलवे की सुविधाओं का भरपूर लाभ उठा रही है।
ब्रजेश पाठक ने कहा कि केन्द्र सरकार रेलवे कर्मचारियों की समस्याओं को प्राथमिकता से हल करने के लिए पूरी तरह संवेदनशील है। उन्होंने रेलवे कर्मियों को आश्वस्त किया कि उनकी और जो भी कठिनाइयां एवं समस्याएं उनके समक्ष आयेंगी वह उनका समाधान कराने के हर संभव प्रयास करेंगे। विधि एवं न्याय मंत्री ने रेलवे कर्मियों से आग्रह किया कि वे अपने दायित्वों का निर्वहन पूरी निष्ठा एवं लगन के साथ करें, ताकि भारतीय रेल विश्व में अपना एक बेहतर मुकाम हासिल कर सके।  अधिवेशन में यूनियन के पदाधिकारी गोपाल मिश्र, मणिकान्त शुक्ल, मनोज श्रीवास्तव तथा अन्य वरिष्ठ पदाधिकारी व देशभर से आये रेलवे कर्मचारियों ने बड़ी संख्या में भाग लिया।