AAP के पार्षद ताहिर हुसैन आत्मसमर्पण करते ही गिरफ्तार

Statement Today
अब्दुल बासिद/ब्यूरो मुख्यालय: नई दिल्ली, दिल्ली हिंसा के दौरान खुफिया ब्यूरो (आईबी) के कर्मचारी अंकित शर्मा की हत्या के कथित आरोपी और आम आदमी पार्टी (आप) के निलंबित पार्षद ताहिर हुसैन को दिल्ली पुलिस की अपराध शाखा ने गुरुवार को गिरफ्तार कर लिया है। कुछ देर पहले ही हुसैन ने राउज ऐवन्यू कोर्ट में आत्मसमर्पण किया था। हुसैन ने गुरुवार की दोपहर अतिरिक्त मुख्य मेट्रोपोलिटन मजिस्ट्रेट विशाल पाहुजा के समक्ष आत्मसमर्पण करने के लिए एक आवेदन दिया था।
सुनवाई चल ही रही थी, तभी क्राइम ब्रांच के अधिकारी मौके पर पहुंचे। दिल्ली हिंसा के दौरान हत्या के एक मामले में निलंबित आम आदमी पार्टी के पार्षद हुसैन फरार चल रहे थे। उन पर हिंसा के दौरान हत्या का मुकदमा दर्ज किया गया था। 
एक उच्च पदस्थ पुलिस सूत्र ने बुधवार को बताया कि नया मामला खजूरी खास पुलिस स्टेशन में दर्ज किया गया है। दिल्ली हिंसा के दौरान गोली से घायल हुए शिकायतकर्ता ने प्राथमिकी में कहा है कि हुसैन उन उपद्रवियों में शामिल था, जिन्होंने उस पर गोलियां चलाई थीं।
हालांकि आईएएनएस ने कई बार इस संबंध में पूर्वोत्तर जिले के डीसीपी वेद प्रकाश सूर्या और संयुक्त पुलिस आयुक्त आलोक कुमार से संपर्क करने की कोशिश की, लेकिन सभी प्रयास बेकार गए। साथ ही अभी तक शिकायत के बारे में कोई आधिकारिक सूचना जारी नहीं की गई है।
इससे पहले ताहिर ने एक चैनल के साथ बातचीत में कहा कि वह निर्दोष है और नार्को टेस्ट के लिए भी तैयार है। ताहिर ने कहा कि मुझे मेरे वकील ने सरेंडर की सलाह दी है। मुझ पर गलत आरोप लगाए जा रहे हैं। जांच के बाद ही अंकित की मौत का राज खुलेगा।
मैं खुद उसकी मौत से बहुत दुखी हूं। मैं तब वहां पर नहीं था। मेरे परिवार का कोई भी सदस्य वहां मौजूद नहीं था। मैं 24 फरवरी को ही पुलिस को घर सौंपकर चला गया था। यह घटना 25 फरवरी को हुई। मुझे देश के कानून पर भरोसा है। मैं निर्दोष साबित होऊंगा और मुझे इसका यकीन है।