तपिश ने रोके कदम, चौथे चरण में उत्तर प्रदेश की 13 लोकसभा सीटों पर मात्र 58 फीसदी वोटिंग

Statement Today
अब्दुल बासिद/ब्यूरो मुख्यालय: लखनऊ, लोकसभा चुनाव के चौथे चरण में गर्मी के तल्ख तेवरों के बीच उत्तर प्रदेश में 13 सीटों के लिये सोमवार को हुए मतदान में 57.58 प्रतिशत लोगों ने अपने मताधिकार का प्रयोग किया। सुरक्षा के चाकचौबंद इंतजाम के बावजूद हिंसा की छिटपुट घटनाओं को छोड़कर मतदान आमतौर पर शांतिपूर्ण रहा।
सुबह सात बजे शुरू हुए मतदान के दौरान इक्का दुक्का स्थानों पर ईवीएम की खराबी ने खलल डाला, जबकि दोपहर में सूरज की किरणें सीधी होने के साथ कई मतदान केन्द्रों में सन्नाटा पसर गया। मतदान करने में खीरी और झांसी अव्वल रहे, जबकि शाहजहांपुर और कानपुर इस मामले में फिसड्डी साबित हुए। इस चरण में शाहजहाँपुर, खीरी, हरदोई, मिश्रिख, उन्नाव, फर्रुखाबाद, इटावा, कन्नौज, कानपुर, अकबरपुर, जालौन, झाँसी और हमीरपुर में कुल 152 उम्मीदवारों की किस्मत का फैसला इलेक्ट्रानिक वोटिंग मशीन (ईवीएम) में कैद हो गया।
चौथे चरण में कन्नौज से समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष अखिलेश यादव की पत्नी डिम्पल यादव, फर्रुखाबाद से कांग्रेस उम्मीदवार सलमान खुर्शीद और कानपुर से श्रीप्रकाश जायसवाल के अलावा उन्नाव में कांग्रेस की अनु टंडन और भाजपा के साक्षी महाराज चुनाव मैदान में है। निर्वाचन आयोग से मिली जानकारी के अनुसार शाम छह बजे तक शाहजहांपुर में 5०.87 प्रतिशत, खीरी में 63 प्रतिशत, हरदोई में 57.49 प्रतिशत, मिश्रिख में 56.2० प्रतिशत, उन्नाव में 59.33 प्रतिशत, फरूखाबाद में 59.37 प्रतिशत, इटावा में 56.46 प्रतिशत, कन्नौज में 59.48 प्रतिशत, कानपुर में 51.०9 प्रतिशत, अकबरपुर में 55.8० प्रतिशत, जालौन में 59.77 प्रतिशत, झांसी में 63 प्रतिशत और हमीरपुर में 6०.91 फीसदी लोगों ने वोट डाले। लोकसभा की 13 सीटों के साथ, खीरी में निघासन विधानसभा सीट के लिए हुये उपचुनाव में 62 प्रतिशत लोगों ने मताधिकार का प्रयोग किया।
यह सीट भारतीय जनता पार्टी सदस्य की मृत्यु होने के कारण खाली हुई है। विधानसभा उपचुनाव में सात उम्मीदवार मैदान में हैं। शाहजहांपुर के तिहार विधानसभा क्षेत्र में मतदान के दौरान दो गुटों में हुई हिंसक झड़प में महिला और एक युवक घायल हो गये। एक खास दल को वोट नहीं करने को लेकर कुछ लोगों ने एक महिला को पीट दिया, जिस पर महिला के पक्ष के लोगों ने विरोधियों पर लाठी डंडे से प्रहार किये और हवा में गोलियां दागी। पुलिस का कहना है कि दोनो के बीच पुरानी दुश्मनी को लेकर मारपीट हुई। हरदोई और कन्नौज में भाजपा और गठबंधन कार्यकर्ताओं के बीच मारपीट हुयी। वहीं शाहजहांपुर में पूर्व केन्द्रीय मंत्री एवं धौरहरा लोकसभा से कांग्रेस प्रत्याशी जितिन प्रसाद ने चुनाव आयोग में शिकायत दर्ज करायी कि एक युवक ने अपनी बहन के नाम पर मतदान किया। कानपुर के ग्वालटोली के परमट इलाके में एक मतदान केन्द्र में पोलिंग एजेंट के अंदर जाने और वोटर लिस्ट को लेकर भाजपा कार्यकर्ताओं ने बखेड़ा खड़ा कर दिया।
जानकारी पर भाजपा नेता सुरेश अवस्थी और महापौर प्रमिला पांडेय भी पहुंच गए। भाजपा नेता और पुलिस के बीच जमकर नोकझोंक हुयी। इस बीच श्री अवस्थी ने पुलिस क्षेत्राधिकारी के साथ अभद्र भाषा का इस्तेमाल किया। हालांकि महापौर ने दोनो पक्षों को शांत करा दिया। क्षेत्राधिकारी कर्नलगंज जनार्दन दुबे की तहरीर पर ग्वालटोली थाने में सुरेश अवस्थी और अन्य के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर कार्रवाई की जा रही है। कई स्थानों पर मतदाता सूची में नाम गायब रहने को लेकर लोगबाग निराश होकर घर वापस चले गये। कानपुर में मतदाता सूची में गड़बडिय़ों की तमाम घटनाएं प्रकाश में आई। मतदान केन्द्रों पर पानी, पंखा और व्हील चेयर की व्यवस्था की गयी है। इसके अलावा चिकित्सकों को भी कई मतदान केन्द्रों पर तैनात किया गया है।
जालौन में लगभग आधा दर्जन गांवों में लोगों ने ‘रोड नहीं तो वोट नहीं का नारा बुलंद करते हुए मतदान प्रक्रिया में हिस्सा लेने से इंकार कर दिया। डकोर ब्लॉक के एयर, ददरी, खरका, टीकर, कुरोना, धमनी गांव में ग्रामीणों ने विरोध के चलते वोट नहीं डाले। ग्रामीणों को जिद के आगे प्रशासन बेबस नजर आ रहा है। उरई जालौन के सिटी मजिस्ट्रेट जे.पी. सिंह ने ग्रामीणों को मनाने का काफी प्रयास किया, लेकिन उनके प्रयास फलीभूत होते नजर नहीं आये। हमीरपुर संसदीय क्षेत्र में भी बढते तापमान का असर मतदान पर दिखायी दिया। स्वतंत्र और निष्पक्ष चुनाव कराने के लिए लगभग 1.5 लाख सुरक्षाकर्मी तैनात किए गए थे। इस चरण में केंद्रीय बलों की 2०० से अधिक कंपनियों को तैनात किया गया था।