अब ऐसे कटेगी जेब! SBI ने तय की अकाउंट में न्यूनतम बैलेंस की सीमा

statementtoday.com7 years ago151 min
स्टेटमेंट टुडे न्यूज़ एजेंसी:
नई दिल्‍ली। नोटबंदी के देश में कैश और मुद्रा की व्यवस्थआ सामान्‍य हो रही है। इसी बीच  स्टेट बैंक ऑफ इंडिया (एसबीआई) ने एक ऐसी घोषणा की है जो आपको परेशान कर सकती है। भारतीय स्‍टेट बैंक ने अपने ग्राहकों के लिए बैंक खाते में न्‍यूनतम राशि रखने का नया नियम लागू कर दिया है। एसबीआई के नियमों के मुताबिक महानगरों, शहरी इलाकों, अर्द्ध-शहरी और ग्रामीण इलाकों मे रहने वाले लोगों को अपने बैंक खातों में न्‍यूनतम राशि का रखना होगा, अगर ऐसा नहीं किया तो एसबीआई खाता धारकों के बैंक खाते से हर महीने पैसे कटना शुरु हो जाएंगे।
1 अप्रैल से लागू होंगे एसबीआई के नए नियम
भारतीय स्‍टेट बैंक के नए नियम के मुताबिक मेट्रो शहरों में न्‍यूनतम बैलेंस 5000 रुपए, शहरी इलाकों के लिए 3,000 रुपए, अर्द्ध-शहरी इलाकों के लिए 2,000 रुपए और ग्रामीण इलाकों के लिए 1,000 रुपए तय किया है। अगर बैंक खाते में इतना पैसा नहीं होगा तो बैंक आपसे पैसे वसूल करना शुरु करेगा। 1 अप्रैल से बैंक खाता धारकों से यह चार्ज वसूलना शुरु करेगा।
ऐसे कटेंगे चार्ज
  • मेट्रो शहरों में यदि बैंक खाते में न्‍यूनतम बैलेंस में 75 प्रतिशत से अधिक की कमी होगी तो सर्विस टैक्स के साथ 100 रुपए का चार्ज बैंक वसूल करेगा। 
  • यदि न्‍यूनतम बैलेंस में कमी 50 से 75 प्रतिशत के बीच है तो सर्विस टैक्स के साथ 75 रुपए का चार्ज बैंक वसूल करेगा। 
  • 50 प्रतिशत से कम बैलेंस होने पर सर्विस टैक्स के साथ 50 रुपए का चार्ज बैंक वसूलेगा। 
  • ग्रामीण इलाकों के खाता धारकों के लिए न्‍यूनतम बैलेंस न रखने पर सर्विस टैक्स पर 20 रुपए से लेकर 50 रुपए का चार्ज वसूल करने की बात कही है। 
इससे पहले एसबीआई की एक घोषणा के तहत 1 अप्रैल से एसबीआई ब्रांच में एक महीने में तीन कैश ट्रांजैक्‍शन्स के बाद किए जाने वाले प्रत्‍येक ट्रांजैक्‍शन पर 50 रुपए का शुल्‍क भी देना होगा। 1 अप्रैल स्टेट बैंक ऑफ इंडिया से कैश निकालना महंगा हो जाएगा। निजी बैंकों ने भी इस तरह की सीमाएं तय की हैं। वहीं एसबीआई की ताजा घोषणा ग्राहकों को परेशान कर सकती है।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *