आयुष्मान कार्ड धारक किसी भी मान्यता प्राप्त अस्पताल में 5 लाख रुपए तक सालाना मुफ्त इलाज करा सकते हैं।, यहां जानें पूरा प्रोसेस

statementtoday.com2 months ago153 min
Statement Today

सह सम्पादक/जेड ए खान : प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना (PMJAY) देश के गरीब और अति-पिछड़े वर्ग के लिए काफी लाभदायक साबित हुई है। इसके तहत पात्र लोगों को आयुष्मान कार्ड जारी किए जाते हैं। आयुष्मान कार्ड धारक किसी भी मान्यता प्राप्त अस्पताल में 5 लाख रुपए तक सालाना मुफ्त इलाज करा सकते हैं। योजना की शुरुआत मोदी सरकार के द्वारा की गई। आयुष्मान कार्ड बनवाने के लिए घर बैठे अपनी पात्रता ऑनलाइन चेक कर सकते हैं। अगर आप पात्र हैं तो एमपी ऑनलाइन के कियोस्क सेंटर और लोकसेवा केंद्रों पर जाकर आयुष्मान कार्ड के लिए आवेदन कर सकते हैं।

आयुष्मान कार्ड के लिए पात्रता की जांच कैसे करें?

अगर आप आयुष्मान भारत स्कीम का लाभ लेना चाहते हैं, तो इसके लिए आवेदन करने से पहले अपनी पात्रता की जांच कर लेनी चाहिए।

Step1: सबसे पहले प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना की ऑफिशियल वेबसाइट- https://pmjay.gov.in/ पर विजिट करें।

Step2: यहां होम पेज पर आपको “Am I Eligible” का ऑप्शन दिखाई देगा।

Step3: इस पर क्लिक करने के बाद एक नया पेज ओपन हो जाएगा।

Step4: यहां लॉगिन करने के लिए अपना मोबाइल नंबर और OTP दर्ज करें।

Step5: आयुष्मान योजना के लिए परिवार की पात्रता की जांच के कुछ ऑप्शन मिलेंगे।

Step6: यहां पहले आपको अपना राज्य, कैटेगरी का चुनाव करना होगा।

Step8: तीनों में से कोई एक ऑप्शन चुनने पर आपको सबमिट बटन पर क्लिक करना पड़ेगा।

Step9: अगर आप पात्र होंगे तो आपका नाम नीचे दिखेगा, नहीं तो Not Eligible या Beneficiary Not Found मैसेज दिखेगा।

Step10: अगर आपका नाम इस लिस्ट में नहीं है, तो आप 14555 पर कॉल कर शिकायत और परेशानी बता सकते हैं।

आयुष्मान योजना के लिए कौन पात्र हैं?

आयुष्मान भारत योजना के लिए गरीब और अति-पिछड़े वर्ग के लोग पात्र हैं। केंद्र सरकार का टारगेट ऐसे 50 करोड़ लोगों को योजना से जोड़ना है। ऐसे परिवार जिनके पास खुद का वाहन है और मासिक आय 10,000 रु. या इससे ज्यादा है। वे आयुष्मान कार्ड के पात्र नहीं हैं।

  • – कच्ची दीवारों और छत वाले एक कमरे में रहने वाले परिवार।
  • – ऐसे परिवार जिनमें 16-59 साल के बीच का कोई सदस्य नहीं/कमाने वाला नहीं है।
  • – अति पिछड़े परिवार।
  • – भूमिहीन परिवार, मजदूरी करने वाले लोग।
  • – कूड़ा उठाने वाले लोग और भिखारी।
  • – कारीगर/दर्जी स्वीपर/हस्तशिल्प कार्यकर्ता/स्वच्छता कार्यकर्ता/माली।
  • – निर्माण श्रमिक/श्रमिक/पेंटर/वेल्डर/सुरक्षा गार्ड/कुली।
  • – धोबी/प्लम्बर/राजमिस्त्री।
  • – इलेक्ट्रीशियन/मैकेनिक/असेम्बलर/मरम्मत कर्मी
  • – परिवहन कर्मचारी/रिक्शा चालक/कंडक्टर/गाड़ी खींचने वाला/
  • – वेटर/दुकान कर्मचारी/सहायक/चपरासी/डिलीवरी सहायक
  • – स्ट्रीट वेंडर/फेरीवाला/मोची।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *